ग्रीन फ्रूट वर्म्स ( GREEN FRUIT WORMS )

ग्रीन फ्रूट वर्म्स

( GREEN FRUIT WORMS )

( in English )

परिचय

ग्रीन फ्रूट वर्म्स ( हेलीकोवेर्पा ) हिमाचल प्रदेश के वाणिज्यिक बागों में पाए जाने वाले कई हरे रंग के कीटों में से एक है । यह फ्रूट वर्म्स कई केटरपिलर प्रजातियों के लार्वा होते है।  ग्रीन फ्रूट वर्म्स ग्रीन कटेरपिल्लेर प्रजाति के लार्वा स्टेज होती है ।  यह लार्वा नयी पत्तियों, कलियों, फूलों और अंत में फलों पर फ़ीड करते हैं। वे सेब के फल में गहरे गड्ढे बनाते हैं। ग्रीन फ्रूट वर्म्स के वयस्क भूरे रंग के होते हैं और लगभग 1 इंच लंबे होते हैं। पूरी तरह से बढ़ने पर लार्वा हल्के हरे रंग की पट्टी की तरह दिखते हैं। आमतौर पर पिंक बड और पेटल फॉल के चरण में कीटनाशकों का छिड़काव करके इन्हें नियंत्रण में रखा जाता है।

GREEN FRUIT WORMS

GREEN FRUIT WORMS

क्षति

नुकसान तब होता है जब सेब के फल पर ग्रीन फ्रूट वर्म कीड़े का लार्वा फ़ीड करता है। हालाँकि फलों को खाने से पेड़ का स्वास्थ्य प्रभावित नहीं होता है लेकिन, फल की गुणवत्ता पर बहुत असर पड़ता है। आधे इंच की हरी अवस्था में मादाएं टहनियों और पत्तियों पर अपने अंडे देना शुरू कर देती हैं। वे एक ही स्थान पर एक या दो अंडे जमा करती हैं। हालाँकि वे सैकड़ों अंडे देने में सक्षम हैं। युवा लार्वा पत्तियों और फूलों की कलियों पर फ़ीड करते हैं जबकि पुराने लार्वा फूल और विकासशील फल को नुकसान पहुंचाते हैं। नुकसान उन बागीचो पर आम है जहां पिंक बड या पेटल फॉल की स्प्रे नहीं की जाती है या यदि उन कीटनाशकों का प्रयोग होता है जो इन कीटों के खिलाफ ख़ास प्रभावी नहीं पाए गये हैं।

बायोलॉजी

इन कीटों की प्रति वर्ष एक पीढ़ी चलती है। ग्रीन फ्रूट वर्म का कीड़ा सर्दियों में प्यूपा के रूप में मिट्टी में रहता है। वयस्क मार्च के अंत से मई की शुरुआत तक निकलते हैं और पेड़ के पत्तों पर अंडे देते हैं। लार्वा अप्रैल में हैच करना शुरू करते हैं और स्पर्स की चोटियों पर चढ़ते हैं जहां वे भोजन करते हैं और बढ़ते हैं। वे फ्रूट स्पर्स को खाना ज़्यादा पसंद करते हैं और अक्सर पत्तियों को रोल करके खुद को छिपाते हैं। वे पहले कलियों पर, फिर बाद में फूलों, पत्तियों और फलों को खाते हैं। गर्मियों में, परिपक्व लार्वा जमीन पर गिर जाता है और मिट्टी में प्यूपा अवस्था में चला जाता है।

 

नियंत्रण

इन फलों के कीड़ों से छुटकारा पाने के लिए, पिंक बड के साथ-साथ पेटल फॉल के चरण में स्प्रे करना चाहिए, और उन कीटनाशकों का उपयोग करना चाहिए जो इनके खिलाफ प्रभावी हैं। बेसिलस थुरिंगिनेसिस  ( Bacillus thuringiensis ) ग्रीन फ्रूट वर्म्स  के कीड़ों को नियंत्रित करने के लिए एक ऑर्गॅनिक प्रबंधन है। विलंबित डॉर्मेंसी के दौरान या पेटल फॉल पर डायज़िनॉन ( Diazinon ) का छिड़काव करने से भी हरे फलों के कीड़ों की आबादी नियंत्रित की जा सकती है। फलों के कीड़ों को नियंत्रित करने के लिए फ्लुबेंडामाइड (flubendamide ) का छिड़काव भी प्रभावी पाया गया है।


OPEN IN NEW WINDOW | JOIN TALKAPPLE GROUP

 

@ Since 2015 | lets Grow Apple

error: Content is protected !!

Log in with your credentials

Forgot your details?