स्कार्लेट स्पर (2)

स्कार्लेट स्पर 2

(In English)

SCARLET SPUR (II)

SCARLET SPUR (II)

उत्पत्ति

स्कारलेट स्पर रेड डेलीशियस की नई और बेहतर किस्म है। स्कारलेट स्पर ओरेगन स्पर कि म्यूटेंट प्रजाति है,और इसकी खोज वाशिंगटन के याकिमा शहर में विलियम जी इवांस और डॉन आर स्नाइप्स द्वारा 1980 में की गई थी। स्कार्लेट स्पर 2 स्कार्लेट स्पर से उत्परिवर्तित प्रजाति है, जिसमे अपने पेरेंट के सभी गुण है और इसमे अपने पेरेंट से 3 दिन पहले पूरा रंग आ जाता है।

 स्कार्लेट स्पर और स्कार्लेट स्पर 2 वेन वेल्ल नर्सरी की विशेष प्रीमियर किस्म है।

SCARLET SPUR (II) WALNUT STAGE

SCARLET SPUR (II) WALNUT STAGE

प्रमुख बिंदु

• ओरेगन स्पर का उत्परिवर्तन ।
• मिड-अर्ली ब्लूम।
• फल आकार 70-85 mm ।
• पेड़ प्रकार स्पर टाइप ।
• ग्रोथ मध्यम से कमजोर तक।
• ग्रॉनी स्मिथ, गोल्डन  डेलीशियस और गाला द्वारा परागण।
• फल पर पूर्ण ब्लश्ड रंग।
• फल क्रिस्पी और रसदार।
• अच्छी भंडारण क्षमता ।

 

पेड विवरण

यह एक मध्यम आकार का पेड़ है, धीमी गति से बढ़ता है और इसकी विशेषताएँ स्पर पेड़ के समान होती है। यह माना जाता है की हिमाचल हिल्स की  अधिक ऊँचाई वाले इलाक़ों के लिए ये प्रजाति उपयुक्त नहीं है। हालाँकि, यह समुद्रतल से 4500-6500 फीट की ऊंचाई रेंज पर अच्छा प्रदर्शन करती है। यह पेड़ बहुत उत्पादक है और राज्य की सबसे आशाजनक वाणिज्यिक किस्म है। स्कार्लेट स्पर किस्म  पुराने पौधों पर टॉप वर्क करने पर भी बहुत उत्पादक किस्म पाई गई है। स्कार्लेट स्पर में ग्रोथ कम देखी गयी है इसलिए एक अच्छी ग्रोथ  वाले रूटस्टॉक किस्म की सिफारिश की गयी है। स्कार्लेट स्पर ग्रॉनी स्मिथ, गोल्डन डेलीशियस और गाला द्वारा परागण किया जा सकता है।
कभी-कभी भारी फसल भी इस किस्म में देखी गई है, इसलिए उच्च गुणवत्ता पाने हेतु अतिरिक्त फलों को थिन करने की जरूरत पड़ सकती है। अतिरिक्त फल थिनिंग से ग्रोवर हर वर्ष फसल ले सकता है। स्कार्लेट स्पर किस्म स्केब  और केंकर के लिए अतिसंवेदनशील पाई गई है, इसलिए अतिरिक्त धयान देने की आवशयकता होती है।

SCARLET SPUR (II)

SCARLET SPUR (II)

 

फल विवरण
स्कार्लेट स्पर का फल आकार में उत्कृष्ट होता है और इसमे अपने पेरेंट ओरेगन स्पर से 30 दिन पहले ही रंग आना शुरू हो जाता है। लाल रंग फल की टहनी में भी देखा जाता है। यह रंग प्रकार में ओरेगन स्पर से अलग होता है। ओरेगन स्पर मे धारियाँ होती है वहीं स्कार्लेट स्पर पर ब्लश्ड लाल रंग होता है। फसल पक जाने पर स्कार्लेट स्पर के फल का गुदा सफेद रंग का होता है और फल पे ब्लश्ड लाल रंग होता है। इस किस्म की विशेषता यह है की  प्रतिकूल परिस्थितियों में भी पूर्ण रंग आ जाता है और अन्य सभी रेड डेलीशियस क़िस्मो से पहले तोड़ा जा सकता है। फल का आकार पूरी तरह से समान नहीं होता है, यह लंबोतरा से थोड़ा फ्लैट तक हो सकता है ।

OPEN IN NEW WINDOW | JOIN TALKAPPLE GROUP

 

 

@ Since 2015 | lets Grow Apple

error: Content is protected !!

Log in with your credentials

Forgot your details?