यूरोपीय लाल माइट

यूरोपीय लाल माइट

(In English)

विवरण

यह हिमाचल प्रदेश में सेब, नाशपाती और अन्य पहाड़ी फलों पर हमला करने वाला प्रमुख पेड़ों का कीट है। मादा कीट लंबी होती है और इनके आठ पैर होते हैं। यह लगभग 1\64 इंच लंबी ओर इनका रंग चमकदार लाल होता है। नर कीट छोटे और हल्के रंग के होते हैं और इनका पेट नुकीला. होता है। सर्दियों में इनके अंडे गोल और रंग में चमकदार लाल होते हैं। गर्मी के दिनों में इन अंडों का रंग हल्के पीले रंग का होता है। सर्दियों में अंडे आम तौर पर छाल या सेब के पेड़ की दरारों में दिए जाते हैं और ये अंडे वसंत मे पेड़ो के खिलने पर फूटते है और बहुत छोटे होने के कारण इन्हें नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता, इसलिए इन्हें देखने के लिए हाथ के लेंस की मदद लेनी पड़ती है। प्रत्येक मादा अपने औसत जीवन काल के दौरान 35 अंडे देने में  सक्षम होती है। प्रति वर्ष माइट की लगभग 8 से 10 पीढ़ियाँ देखी गयी है।

ERD MITE

RED MITE

हानियां:

यूरोपीय लाल माइट पेड़ो की पतियों को खा कर पतियों के उतकों को हटा देते है जिस कारण से पतियों को हानि पहुँचती है। पतियों को हानि तब पहुँचती है जब माइट पतियों की कोशिकाओं मे अपना मुँह डाल कर उसके पदार्थों को खा लेते हैं।  माइट पतियों की निचली सतह पर रहना पसंद करते है लेकिन जनसंख्या के ज़ादा होने पर इन्हें पतियों की उपर वाली सतह पर भी देखा जा सकता है। घुन माइट के हमले से पतियों का रंग भूरा हो जाता है और गंभीर मामलों मे रंग  कांस्य रंग में बदल जाता है । पत्तियों  के भारी पीड़ित होने के कारण पेड़ कम या कमज़ोर कोपल का उत्पादन करता है और पतियाँ फलों के वांछनीय  आकर की प्राप्ति के लिए ज़रूरी भोजन का उत्पादन भी नही कर पाती। माइट फलों के रंग पर भी असर करता है। इसकी वजह से फल समय से पहले भी गिर सकता है। अगर माइट की उपेक्षा हो तो पेड़ का कमज़ोर होना तथा फलों का कम उत्पादन इसका परिणाम हो सकता है।

 

निगरानी :

निष्क्रिय मौसम में निगरानी  बाग के प्रत्येक ब्लॉक में अनियमित रूप से चयनित 10 पेड़ों पर प्रति  पेड़ 5 स्पर्स (spurs) का संग्रह करके किया जा सकता है। हर एक स्पर पर आधार से उपर की ओर आते हुए हाथ के लेंस की मदद से अंडो की संख्या को देखने की कोशिश  करे । गर्मियों  मे इस जाँच की आवश्यकता  विशेष रूप से बढ़ जाती है अगर आपने Chlorpyrifos जैसे व्यापक स्पेक्ट्रम वाले कीटनाशक का इस्तामाल किया है । ऐसे कीटनाशकों के अनुप्रयोग से वर्तमान वर्ष में माइट क्षति का खतरा बढ़ जाता है।  घुन की मौजूदा औसत निर्धारित करने के लिए साल भर इसकी जाँच करनी चाहिए। यह जाँच हाथ के लेंस की मदद से की जा सकती है।

 

नियंत्रण:

जैविक नियंत्रण:

 

यह तकनीक माइट के प्राकृतिक दुश्मन जो माइट को खाते है, को प्रोत्साहित करने से लागू किया जा सकता है । प्राकृतिक दुश्मनों की मदद से यूरोपीय लाल माइट के प्रबंधन की लागत को भी कम किया जा सकता है।

 

प्राकृतिक दुश्मनों को विषाक्त कर रहे कीटनाशकों के प्रयोग से बचें

 

प्राकृतिक दुश्मनों में शामिल

 

  1. टयफ़लोडरोमूस पयर Typhlodromus pyri
TYPHLODROMUS-PYRI

TYPHLODROMUS-PYRI

2.ज़ेत्ज़ेल्लिया माली Zetzellia Mali

ZETZELLIA MALI3.नेवसेुलुस फल्लासिस Neoseiulus fallacis

NEOSEIULUS FALLACIS

माइट प्रसुप्त  मौसम में निष्क्रिय तेल के आवेदन के द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। अगर निष्क्रिय तेल नहीं किया जाता है, तो इसे नियंत्रित करने के लिए जल्दी वसंत ऋतु में बागवानी खनिज तेल लागू किया जा सकता हैं।

रासायनिक नियंत्रण:

 

  1. फेनज़क़ुयं Fenzaquin

 

  1. प्रॉपेरगयते Propergyte

 

हेक्शयतियाज़ोक्श  Hexythiazox (अंडे को मारता है , जल्दी लागू करने की आवश्यकता )

डिकोफ़ोल Dicofol (साल मे देर से होने वाले माइट के प्रकोप के लिए)

  1. बिफेंतरीन Bifenthrin

 

(समय के साथ एक ही रसायन का प्रयोग न करें।)

 

 

    1. Fenzaquin
    2. Propergyte
    3. Hexythiazox (kills eggs need to apply early)
    4. Dicofol (for use on late season mite out-breaks)
  1. Bifenthrin

 

 

OPEN IN NEW WINDOW | JOIN TALKAPPLE GROUP

 

 

@ Since 2015 | lets Grow Apple

error: Content is protected !!

Log in with your credentials

Forgot your details?